Mujhe Sahal Ho Gayin Manzilein | वो हवा के रुख़ भी बदल गए – Hindian Kavya

0
Mujhe Sahal Ho Gayi Manzilen – Majhoor Sultanpuri

मुझे सहल हो गईं मंज़िलें वो हवा के रुख़ भी बदल गए
तिरा हाथ हाथ में आ गया कि चराग़ राह में जल गए

वो लजाए मेरे सवाल पर कि उठा सके न झुका के सर
उड़ी ज़ुल्फ़ चेहरे पे इस तरह कि शबों के राज़ मचल गए

वही बात जो वो न कह सके मिरे शेर-ओ-नग़्मा में आ गई
वही लब न मैं जिन्हें छू सका क़दह-ए-शराब में ढल गए

वही आस्ताँ है वही जबीं वही अश्क है वही आस्तीं
दिल-ए-ज़ार तू भी बदल कहीं कि जहाँ के तौर बदल गए

तुझे चश्म-ए-मस्त पता भी है कि शबाब गर्मी-ए-बज़्म है
तुझे चश्म-ए-मस्त ख़बर भी है कि सब आबगीने पिघल गए

मिरे काम आ गईं आख़िरश यही काविशें यही गर्दिशें
बढ़ीं इस क़दर मिरी मंज़िलें कि क़दम के ख़ार निकल गए

– मजरूह सुल्तानपुरी

Mujhe Sahal Ho Gayi Manzile, Woh Hawa Ke Rukh Bhi Badal Gaye
Tera Haath Haath Mein Aa Gaya Ki Chiraag Raah Mein Jal Gaye

Jo Lajaye Mere Sawaal Par Ki Utha Sake Na Jhuka Ke Sare
Udi Zulf Chehre Pe Is Tarah Ki Shabo Ke Raaz Machal Gaye

Wahi Baat Jo Na Woh Keh Sake Mere Sher-O-Nagma Mein Aa Gayi
Wahi Lab Na Main Jinhe Chhoo Saka, Kadhe Sharaab Mein Dhal Gaye

Tujhe Chasm-Mast Pata Bhi Hai Ki Shabaab Garmi-E-Bazam Hai
Tujhe Chasm-Mast Khabar Bhi Hai Ki Sab Aabgi Ne Pighal Gaye

Unhe Kab Ke Raas Bhi Aa Chuke Ter Bazm-Naaz Ke Haadise
Ab Uthe Ki Teri Naza Fire Jo Gire The Gir Ke Sambhal Gaye

Mere Kaam Aa Gayi Aakhiras Yahi Kavishey Yahi Gardishey
Badi Is Kadar Meri Manzile Ki Kadam Ke Khar Nikal Gaye

Majrooh Sultanpuri

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here