[Parveen Shakir] Barish Huyi To Fulon Ke Tan Chaak Ho Gae | बारिश हुई तो फूलों के तन चाक हो गए – परवीन शाकिर

0

परवीन शाकिर की बेस्ट ग़ज़ल Barish Huyi To Fulon Ke Tan Chaak Ho Gae… शायरी

परवीन शाकिर ग़ज़ल – बारिश हुई तो फूलों के तन चाक हो गए

बारिश हुई तो फूलों के तन चाक हो गए
मौसम के हाथ भीग के सफ़्फ़ाक हो गए

बादल को क्या ख़बर है कि बारिश की चाह में
कैसे बुलंद-ओ-बाला शजर ख़ाक हो गए

जुगनू को दिन के वक़्त परखने की ज़िद करें
बच्चे हमारे अहद के चालाक हो गए

लहरा रही है बर्फ़ की चादर हटा के घास
सूरज की शह पे तिनके भी बेबाक हो गए

बस्ती में जितने आब-गज़ीदा थे सब के सब
दरिया के रुख़ बदलते ही तैराक हो गए

सूरज-दिमाग़ लोग भी अबलाग़-ए-फ़िक्र में
ज़ुल्फ़-ए-शब-ए-फ़िराक़ के पेचाक हो गए

जब भी ग़रीब-ए-शहर से कुछ गुफ़्तुगू हुई
लहजे हवा-ए-शाम के नमनाक हो गए

– परवीन शाकिर

Parveen Shakir Ghazal – Barish Huyi To Fulon Ke Tan Chaak Ho Gae

Baarish Huyi To Foolon Ke Tan Chaak Ho Gaye
Mausam Ke Haath Bheeg Ke Saffak Ho Gaye

Baadal Ko Kya Khabar Hai Ki Baarish Ki Chaah Me
Kaise Buland-O-Bala Shajar Khaak Ho Gaye

Jugnoo Ko Din Ke Waqt Parakhne Ki Zid Karen
Bachche Hamare Ahad Ke Chalaak Ho Gaye

Lahra Rahi Hai Barf Ki Chaadar Hata Ke Ghaas
Sooraj Ki Shah Pe Tinke Bhi Bebak Ho Gaye

Basti Me Jitne Aab-Gazeeda The Sab Ke Sab
Dariya Ke Rukh Badalte Hi Tairak Ho Gaye

Suraj-Dimag Log Bhi Ablaag-e-Fikr Me
Zulf-e-Shab-e-Firaak Ke Pechak Ho Gaye

Jab Bhi Gareeb-e-Shahar Se Kuchh Guftgoo Huyi
Lahje Hawa-e-Sham Ke Namnaak Ho Gaye

उम्मीद करता हु आपको परवीन शाकिर जी की बारिश हुई तो फूलों के तन चाक हो गए ग़ज़ल पसंद आयी होगी, परवीन शाकिर की ग़ज़ल, शायरी को पढ़ने के लिए बने रहे हमारे साथ.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here