Kahte Ho Na Denge Ham Dil Agar Pada Paaya – Mirza Ghalib

0

मिर्ज़ा ग़ालिब के द्वारा लिखी गई “कहते हो न देंगे हम दिल अगर पड़ा पाया” बेहतरीन शायरी वा ग़ज़ल।

कहते हो न देंगे हम दिल अगर पड़ा पाया
दिल कहाँ कि गुम कीजे हम ने मुद्दआ' पाया

इश्क़ से तबीअ'त ने ज़ीस्त का मज़ा पाया
दर्द की दवा पाई दर्द-ए-बे-दवा पाया

दोस्त-दार-ए-दुश्मन है ए'तिमाद-ए-दिल मा'लूम
आह बे-असर देखी नाला ना-रसा पाया

सादगी ओ पुरकारी बे-ख़ुदी ओ हुश्यारी
हुस्न को तग़ाफ़ुल में जुरअत-आज़मा पाया

ग़ुंचा फिर लगा खिलने आज हम ने अपना दिल
ख़ूँ किया हुआ देखा गुम किया हुआ पाया

हाल-ए-दिल नहीं मा'लूम लेकिन इस क़दर या'नी
हम ने बार-हा ढूँडा तुम ने बार-हा पाया

शोर-ए-पंद-ए-नासेह ने ज़ख़्म पर नमक छिड़का
आप से कोई पूछे तुम ने क्या मज़ा पाया

है कहाँ तमन्ना का दूसरा क़दम या रब
हम ने दश्त-ए-इम्काँ को एक नक़्श-ए-पा पाया

बे-दिमाग़-ए-ख़जलत हूँ रश्क-ए-इम्तिहाँ ता-कै
एक बेकसी तुझ को आलम-आश्ना पाया

ख़ाक-बाज़ी-ए-उम्मीद कार-ख़ाना-ए-तिफ़्ली
यास को दो-आलम से लब-ब-ख़ंदा वा पाया

Mirza Ghalib – Kahate Ho Na Denge Ham Dil Agar Pada Paaya in English Font

kahate ho na denge ham dil agar pada paaya
dil kahaan ki gum keeje ham ne mudda paaya

ishq se tabeet ne zeest ka maza paaya
dard kee dava paee dard-e-be-dava paaya

dost-daar-e-dushman hai etimaad-e-dil maloom
aah be-asar dekhee naala na-rasa paaya

saadagee o purakaaree be-khudee o hushyaaree
husn ko tagaaful mein jurat-aazama paaya

guncha phir laga khilane aaj ham ne apana dil
khoon kiya hua dekha gum kiya hua paaya

haal-e-dil nahin maloom lekin is qadar yanee
ham ne baar-ha dhoonda tum ne baar-ha paaya

shor-e-pand-e-naaseh ne zakhm par namak chhidaka
aap se koee poochhe tum ne kya maza paaya

hai kahaan tamanna ka doosara qadam ya rab
ham ne dasht-e-imkaan ko ek naqsh-e-pa paaya

be-dimaag-e-khajalat hoon rashk-e-imtihaan ta-kai
ek bekasee tujh ko aalam-aashna paaya

khaak-baazee-e-ummeed kaar-khaana-e-tiflee
yaas ko do-aalam se lab-ba-khanda va paaya

Mirza Galib

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here